देश/विदेश

सहिष्णुता, विविधता के बुनियादी मूल्यों को गंवाया नहीं जा सकता: राष्ट्रपति

नयी दिल्ली: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने गोमांस खाने की अफवाह के बाद दादरी में एक व्यक्ति की पीट पीट कर हत्या किए जाने की पृष्ठभूमि में आज कहा कि भारतीय स5यता के विविधता, सहिष्णुता और अनेकता में एकता के बुनियादी मूल्यों को हमें निश्चित तौर पर अपने दिमाग में बनाए रखना चाहिए और इसे कभी भी यूंही गंवाने नहीं दिया जा सकता।

राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘मेरा यह दृढ़ विश्वास है कि हम अपनी स5यता के बुनियादी मूल्यों को यूंही गंवाने की अनुमति नहीं दे सकते । ये बुनियादी मूल्य हैं.. विविधता, सहिष्णुता, सहनशीलता और अनेकता में एकता , जिसे वषरे से हमारी स5यता ने संजो कर रखा और उसका जश्न मनाया।’’

उन्होंने कहा, ‘‘इन्हीं बुनियादी मूल्यों ने हमें सदियों तक एक साथ बांधे रखा। कई प्राचीन स5यताएं खत्म हो गईं। लेकिन यह सही है कि एक के बाद एक आक्रामण और लंबे विदेशी शासन के बावजूद भारतीय स5यता अगर बची तो अपने बुनियादी मूल्यों के कारण ही बची। हमें निश्चित तौर पर इसे ध्यान में रखना चाहिए। अगर इन बुनियादी मूल्यों को हम अपने मन-मस्तिष्क में बनाए रखें तो हमारे लोकतंत्र को आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता।’’

उनकी यह टिप्पणी उत्तर प्रदेश के दादरी में गोमांस खाने की अफवाह पर 50 साल के एक व्यक्ति की पीट-पीट कर की गई हत्या की पृष्ठभूमि में आई है। इस घटना के कारण देशभर में आक्रोश है।

राष्ट्रपति को यहां राष्ट्रपति भवन में एक कार्यक्रम के दौरान उन पर लिखी एक ‘कॉफी टेबल बुक’ सौंपी गई, जिसे ‘न्यू इंडियन एक्सप्रेस’ के संपादकीय निदेशक प्रभु चावला ने लिखा है और जिसका विमोचन उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने किया था।

इस कार्यक्रम में गृहमंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद, जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला और कई सांसद मौजूद थे।

AGENCY

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button