देश/विदेश

इंद्राणी मुखर्जी होश में, सेहत में सुधार

मुंबई: शीना बोरा हत्याकांड की एक प्रमुख आरोपी इंद्राणी मुखर्जी अब होश में हैं और उनके स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है। उन्हें शुक्रवार को बेहोशी की हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

सर जे.जे. ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स के डीन टी.पी. लहाणे ने रविवार शाम कहा कि इंद्राणी खतरे से बाहर हैं, होश में हैं लेकिन उनींदी हैं।

उन्होंने कहा, “वह अब खतरे से बाहर हैं और होश में हैं। वह अभी भी उनींदी हैं और मुंह से कोई चीज ले पा रही हैं। हमने उन्हें पानी दिया और वह पी गईं। उन्हें अगले 48 घंटों तक निगरानी में रखा जाएगा। उसके बाद उन्हें छुट्टी दे दी जाएगी।”

लहाणे ने शनिवार को कहा था कि इंद्राणी गहन निद्रा या अचेतना में पहुंच गई हैं। लेकिन वह लगभग 18 घंटे बाद इससे बाहर निकल आईं।

उन्होंने कहा कि फोरेंसिक रपट से संकेत मिलता है कि इंद्राणी ड्रग के ओवरडोज से पीड़ित नहीं थीं, हालांकि पहले उनका इलाज यही मानकर किया गया।

लहाणे ने शुक्रवार को कहा था, “हमें लगता है कि उन्होंने कुछ गोलियां खा ली हैं इसलिए हम उसी आधार पर उनका इलाज कर रहे हैं।”

लहाणे ने कहा कि शुक्रवार देर रात उनकी हालत गंभीर थी। उनकी कई जांच की गई।

इंद्राणी को शुक्रवार दोपहर लगभग दो बजे सांस लेने में तकलीफ और बेचैनी की शिकायत के बाद सर जे.जे.अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

अब इंद्राणी से सोमवार को संभवत: पूछताछ की जा सकती है कि उनका स्वास्थ्य कैसे बिगड़ा। 

महाराष्ट्र में विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखे-पाटील ने रविवार को मांग की कि यह स्पष्ट किया जाए कि इंद्राणी ने आत्महत्या की कोशिश की या यह उसकी हत्या की साजिश थी। 

पाटील ने कहा कि जिस तरह से महाराष्ट्र पुलिस से इस मामले की जांच सीबीआई को दी गई, वह आश्चर्यजनक है। 

उन्होंने कहा कि इस मामले में कई अनुत्तरित सवाल हैं। अभियुक्त की गिरफ्तारी के बावजूद मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त राकेश मारिया का अचानक तबादला। मामले को पुलिस से सीबीआई को दिया जाना और अब रहस्यमय परिस्थतियों में इंद्राणी की तबीयत खराब होना, इससे संदेह होता है। क्या इस मामले में किसी को बचाया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि गृह विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया था कि इंद्राणी जेल प्रशासन की निगरानी में मिरगी के इलाज के लिए दो गोलियां लेती थीं, जिनमें से एक सुबह और दूसरी शाम में लेनी होती थी।

हालांकि ऐसा लगता है कि उन्होंने गोलियों को इकट्ठा कर लिया होगा और शुक्रवार सुबह उन्हें एक साथ खा लिया, जिससे उनकी हालत बिगड़ गई। 

इंद्राणी को अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या के मामले में 25 अगस्त को गिरफ्तार किया गया था। शीना बोरा की हत्या अप्रैल 2012 में हुई थी। शीना उनकी पूर्व शादी से हुई बेटी थी।

इस मामले में इंद्राणी के पूर्व पति संजीव खन्ना और उनके पूर्व चालक श्यामवर राय को भी गिरफ्तार किया गया है। वे सात सितंबर से न्यायिक हिरासत में हैं। मामले की जांच पहले मुंबई पुलिस कर रही थी, लेकिन बाद में महाराष्ट्र सरकार ने इसे केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को सौंप दिया।

AGENCY

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button