समारोह

ब्रसेल्स में मनाया गया हिंदी दिवस

ब्रसेल्स: ब्रसेल्स में भारतीय दूतावास परिसर में हिंदी दिवस मनाया गया। इसके अलावा भारतीय दूतावास ने विभिन्न विषयों पर हिंदी में निबंध लेखन प्रतियोगिता का भी आयोजन किया, जो सिर्फ दूतावास के अधिकारियों के लिए ही नहीं था बल्कि इंटरनेट के जरिए पूरी दुनिया के प्रतिभागियों के लिए खुला था।

रोचक बात यह है कि इंदौर के एक हिंदी प्रेमी ने जहां पहला पुरस्कार हासिल किया, वहीं बेंगलुरू के प्रतिभागी को तीसरा स्थान मिला।

भारतीय दूतावास की ओर से जारी एक वक्तव्य के अनुसार, हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है, क्योंकि इसी दिन भारतीय संविधान निर्माताओं ने हिंदी को देश की राष्ट्र भाषा स्वीकार किया था।

बेल्जियम में हिंदी दिवस का इस वर्ष खास मायने है, क्योंकि भारत सरकार ने बेल्जियम की हिंदी विशेषज्ञ घेंट विश्वविद्यालय के भाषा विज्ञान विभाग की प्राध्यापिका सारत्जे वेरबेके को सम्मानित किया है। भारत सरकार ने वेरबेके को प्रतिष्ठित ‘विश्व हिंदी सम्मान-2015’ प्रदान किया।

हाल के दिनों में वेरबेके इस सम्मान से सम्मानित होने वाले बेल्जियम की पहली विद्वान हैं। भारत में भोपाल में आयोजित विश्व हिंदी सम्मेलन के दौरान 12 सितंबर को वेरबेके को यह प्रतिष्ठित सम्मान प्रदान किया गया।

बेल्यिजम, लक्जमबर्ग और यूरोपीय संघ में भारत के राजदूत मंजीव सिंह पुरी ने दूतावास में हिंदी दिवस पर आयोजित समारोह में वेरबेके को सम्मानित किया और बेल्जियमवासियों द्वारा हिंदी सीखने के लिए किए जा रहे प्रयासो की सराहना की।

उन्होंने बेल्जियम की जनता के बीच हिंदी को लोकप्रियता दिलाने की कोशिशों को बढ़ावा दिए जाने पर भी जोर दिया।

ब्रसेल्स में बैंक ऑफ बड़ौदा के मुख्य कार्यकारी अशोक कुमार सिन्हा हिंदी भाषा की बारीकियों पर खूबसूरत संबोधन दिया।

इसके अलावा भारतीय दूतावास ने विभिन्न विषयों पर हिंदी में निबंध लेखन प्रतियोगिता का भी आयोजन किया, जो सिर्फ दूतावास के अधिकारियों के लिए ही नहीं था बल्कि इंटरनेट के जरिए पूरी दुनिया के प्रतिभागियों के लिए खुला था।

रोचक बात यह है कि इंदौर के एक हिंदी प्रेमी ने जहां पहला पुरस्कार हासिल किया, वहीं बेंगलुरू के प्रतिभागी को तीसरा स्थान मिला।

AGENCY

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button