देश/विदेश

घड़ी ने लड़के को जेल भेजा, ओबामा से मिलने का मौका दिया

वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने सूडानी मूल के एक मुस्लिम किशोर को व्हाइट हाउस आने का न्योता दिया है। 

तकनीक को पसंद करने वाले 14 साल के इस लड़के का नाम अहमद मोहम्मद है। यह लड़का अपने टेक्सांस स्थित स्कूल में एक खास तरह की घड़ी लेकर गया था।

उसने उसमें कुछ प्रयोग किए थे। लेकिन, इसके लिए उसे प्रशंसा नहीं जेल मिली। ‘नकली बम’ बनाने के लिए उसे जेल भेज दिया गया। 

लेकिन, अंत भला तो सब भला। अंत में अहमद को दुनिया की दो महत्वपूर्ण हस्तियों बराक ओबामा और फेसबुक के प्रमुख मार्क जुकरबर्ग का निमंत्रण मिला।

ओबामा के ट्विटर एकाउंट पर ट्वीट किया गया, “कूल क्लॉक अहमद। इसे व्हाइट हाउस लाना चाहते हो क्या? हमें और बच्चों को तुम्हारी ही तरह विज्ञान में रुचि लेने के लिए प्रेरित करना चाहिए। यही बात अमेरिका को महान बनाती है।”

अहमद टेक्सस के इरविंग हाईस्कूल में पढ़ता है। सोमवार को उसने अपने शिक्षक को दिखाने के लिए पेंसिल केस की मदद से डिजिटल घड़ी बनाई।

अंग्रेजी के एक शिक्षक को घड़ी देखकर आनन-फानन में शक हो गया। तुरंत स्कूल के अधिकारियों को अपने शक से अवगत करा दिया। अधिकारियों ने भी पुलिस बुलाने में देर नहीं की।

अहमद ने बाद में बताया, “उन्होंने मुझे गिरफ्तार कर लिया। मुझसे कहा कि मैंने एक नकली बम बनाने का अपराध किया है।” 

अहमद उन्हें समझाता रहा कि जिसे वे नकली बम समझ रहे हैं वह तो एक घड़ी है।

उसने कहा कि उसे अपने पिता मोहम्मद अलहस्सान मोहम्मद से बात नहीं करने दी गई। अलहस्सान ने इसी साल सूडान के राष्ट्रपति का चुनाव लड़ा था।

पुलिस ने बुधवार को कहा कि बच्चे पर कोई मामला दर्ज नहीं किया जा रहा है।

इसके बाद व्हाइट हाउस से अहमद को अक्टूबर में होने वाली एस्ट्रोनॉमी नाइट में शामिल होने के लिए न्योता मिला। इसमें खगोलविद, वैज्ञानिक भाग लेते हैं।

ओबामा के मुख्य डाटा वैज्ञानिक भारतवंशी डी.जे.पाटिल ने लिखा, “एस्ट्रोनॉमी नाइट में सभी साउथ लॉन से सितारों को देखेंगे, अपने अनुभव बांटेंगे। हम समझते हैं कि अहमद इनके बीच फिट बैठेगा।”

जब अहमद को गिरफ्तार किया गया था उस वक्त उसने नासा की शर्ट पहन रखी थी। पाटिल ने लिखा, “अहमद वही शर्ट पहनकर आना। मैं भी अपनी वाली पहनूंगा।”

गूगल ने भी अहमद को इस हफ्ते होने वाले अपने विज्ञान मेले में आने का न्योता दिया है।

फेसबुक प्रमुख मार्क जुकरबर्ग ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा है, “कुछ नया-अनूठा करने की क्षमता और इच्छा तारीफ के काबिल होती है न कि गिरफ्तारी के। भविष्य अहमद जैसे लोगों का है।” 

उन्होंने लिखा है, “अहमद क्या तुम फेसबुक आफिस आना चाहोगे? मुझे तुमसे मिलकर खुशी होगी।”

AGENCY

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button